bullseye press inferno comic review in hindi

इन्फर्नो (Inferno) – समीक्षा (No Spoiler Review) – Indian Comics Hindi

इन्फर्नो एक सिंगल अंक में प्रकाशित कॉमिक है जो की 24 पन्नो में पूरी हो जाती है। इन्फर्नो की कहानी शुरू होती है कहानी की एहम किरदार से जो की आइलैंड में मूर्छित दिखाइ गई है और ये तय नहीं कर पा रही की वो ज़िंदा भी है या नहीं।

मूर्छित अवस्था से उठने के बाद वो खुद को वहां अकेला पाती है।

अपनी यादें और यहाँ तक की अपना नाम खो चुकी लड़की अपने सवालो का जवाब ढूंढ़ने द्वीप के अंदर घने वन का रुख करती है |

आगे कहानी क्या मोड़ लेती है ये बहुत दिलचिस्प है। कहानी के हर पन्ने में आप जंगल का खौफ महसूस कर पाएंगे और आप की रूचि बढ़ती जाएगी ।

बुल्सआई की कॉमिक्स की यही ख़ास बात है की वो आप को कहानी के अंत तक बाँध कर रखती है।

इन्फर्नो कहानी के मामले में किसी भी अन्य कॉमिक से कम नहीं है। कहानी के डायलाग बहुत आसानी से पढ़े और समझे जा सकते है।

इन्फर्नो कॉमिक की कमज़ोर कड़ी इसका चित्रांकन और रंगसज्जा है जिसकी वजह से मैंने इसे बाकी बुल्सआई कॉमिक्स से तुलनात्मक मामले में सबसे पीछे रखा है। लेकिन कमजोर चित्रांकन कही भी कहानी के असर को फीका नहीं होने देती।

आजकल के समय में चित्रांकन बहुत एहम किरदार निभाता है कॉमिक के सफल और असफल होने में। लेकिन कहानी इतनी ज़ोरदार थी की इन्फर्नो फिर भी कम से कम एक बार पढ़ने वाली कॉमिक है।

इन्फर्नो की कहानी, उसका असर और उसका विषय – 9

जैसा की हमने ऊपर भी कहा की इन्फर्नो की कहानी बहुत बेहतरीन है। आप कॉमिक के अंदर दिखाए गए किरदारों और वातावरण को अनुभव कर सकते है। ऐसा मुमकिन करना हर एक कहानीकार या लेखक के बस की बात नहीं।

READ  आधिरा मोहि 3 (लूटेरे, हैवान और खौफनाक रहसय) - समीक्षा और अंदर के चित्र

सुदीप मेनन जी की कहानी और मंदार गंगेले जी का हिंदी अनुवाद, इस जोड़ी से आप और क्या अपेक्षा कर सकते है? ये जोड़ी सुपर हिट है दोस्तों।

इन्फर्नो कवर आर्ट अथवा चित्रांकन – 10

कॉमिक में दिलचस्पी बढ़ने में मदद करता है। ये अपने आप में कॉमिक पढ़ने से पहले कई सवालों को जनम देती है। एक कवर आर्ट में कलाकारी के साथ साथ पाठक में उत्सुकता जगाने की काबिलियत हो तो उसे 10 से कम अंक देना नहीं बनता।

Inferno comics (Indian Comics in Hindi – Front Cover)
Inferno comics (Indian Comics in English – Front Cover)

इन्फर्नो संवाद, सुलेख और ग्राफ़िक डिज़ाइन – 8.3

कहानी के संवाद को 10 अंक से कम देने का कोई कारण नहीं है। कुछ संवाद तो आप को इन्फर्नो की दुनिया में ही ले जाते है।

एक संवाद जो हमें हास्य से भरपूर लगा उसका चित्र यहाँ साझा किआ जा रहा है।

ग्राफ़िक डिज़ाइन में भी काम अच्छा हुआ है।

सुलेख में भारी गड़बड़ी है। इसका कारण कुछ हद तक स्पीच बबल्स और अंदर के चित्रांकन की रंगसज्जा भी है। इसे हम 5 अंक देते है।

इन्फर्नो के अंदर के पृष्टो का चित्रांकन और रंगसज्जा – 4

इन्फर्नो के अंदर के पृष्टो का चित्रांकन और रंगसज्जा कॉमिक का सबसे कमज़ोर हिसा है।

इसका कारन ये भी हो सकता है की दोनों ही कलाकारों का ये शुरूआती काम है। जहाँ चित्रांकन बस आज के चित्रकारी के मुकाबले थोड़ा पुराना है वही रंगसज्जा में भारी गड़बड़ दिखाई देती है। इन्फर्नो में चित्रांकन मनीष मित्तल और तदम गयादु ने किआ है। रंगसज्जा आदित्य किशोर ने की है।

  • चित्रांकन – 5
  • रंगसज्जा – 3

इन्फर्नो कॉमिक की समीक्षा का निष्कर्ष

इन्फर्नो बुल्सआई की बाकी की कॉमिक्स की तरह बेहतरीन कॉमिक है। कॉमिक की केवल एक कमज़ोर कड़ी है वो है इसका चित्रांकन और रंगसज्जा। कहानी का लेखन और कलपना बहुत ही उम्दा है। कहानी के अंत में जो हुआ उसने हमें खयालो की दुनिया में कुछ सवालो के साथ छोड़ दिआ।

READ  नरक नाशक उत्तपत्ती श्रृंखला - समीक्षा और चित्रांकन

आपको मेरे द्वारा दिए जा रही समीक्षा कैसी लग रही है, कमेंट जरूर करे!

Inferno in Hindi - Review by Comic Scoop
  • 9/10
    Story - 9/10
  • 8.3/10
    Dialogues, Letters and Graphic Design - 8.3/10
  • 4/10
    Inside Art - 4/10
  • 10/10
    Cover Art - 10/10
7.8/10

Summary - Inferno

इन्फर्नो बुल्सआई की बाकी की कॉमिक्स की तरह बेहतरीन कॉमिक हैI कॉमिक की केवल एक कमज़ोर कड़ी है वो है इसका चित्रांकन और रंगसज्जाI कहानी का लेखन और कलपना बहुत ही उम्दा है। 

Leave a Reply