फौलाद, मास्टरमाइंड और मास्टरप्लान – समीक्षा और अंदर के चित्र

फौलाद, मास्टरमाइंड और मास्टरप्लान – समीक्षा और अंदर के चित्र

सूर्यकांत एक वैज्ञानिक है जिसे आंतकियों के मंसूबो को पूरा होने से रोकने के लिए ऐसे अत्याधुनिक फौलादी कवच का आविष्कार करना पड़ता है जिसे पहन के वो बन जाता है विशालनगर का रखवाला, “फौलाद। फौलाद फेनिल कॉमिक्स के अभी तक समीक्षा किये हुए बाकी दोनों किरदार यानी बजरंगी और क्राइमफाइटर से काफी बेहतर है। अगर आप फेनिल कॉमिक्स को पढ़ना चाहते है तो आप निसंकोच फौलाद श्रृंखला पढ़ सकते है जिसका आखिरी भाग चित्रांकन के मामले में सब से बेहतर फेनिल कॉमिक है वहीँ पहले २ भागो का कुल मिलकर मूल्य केवल ६० रूपए है।

फौलाद श्रृंखला - सार फौलाद यानी सूर्यकांत एक वैज्ञानिक है जिसे आंतकियों के मंसूबो को पूरा होने से रोकने के लिए ऐसे अत्याधुनिक फौलादी कवच का आविष्कार करना पड़ता है जिसे पहन के वो बन जाता है विशालनगर का रखवाला, "फौलाद।  फौलाद श्रृंख्ला में अभी तक तीन कॉमिक्स प्रकाशित हो चुकी है जिनके नाम है; फौलाद, मास्टरमाइंड और मास्टरप्लान।  कॉमिक की कहानी फौलाद, कोबरा और उसके आतंकी संघटन के इर्द गिर्द घूमती है जिसमे कई दिलचस्प मोड़ आते है लेकिन साथ साथ कहानी खींची हुई सी भी महसूस होती है।  फौलाद की कहानी शुरू में मार्वल के आयरन मैन से...
Xavi Origins: The Struggle – Review and Rating

Xavi Origins: The Struggle – Review and Rating

Tragedy strikes young Xavi’s family when his mother is abducted and killed. Following which, Xavi‘s father sends him off to a boarding school.

Xavi Origins - Plot synopsis Tragedy strikes young Xavi’s family when his mother is abducted and killed. Following this, Xavi‘s father sends him off to a boarding school. Due to little contact with his father and being forced to stay away, he becomes resentful of his dad. After spending years away from home, when he finally returns, he finds things are far different from what he expected. His father is no longer the law-abiding citizen he once was. Even though their relationship is far from ideal, little does Xavi realize that his own motivations and outlook towards life are not too...
प्रेमम #2 (MAZE COMICS) – समीक्षा अंदर के चित्रांकन के साथ

प्रेमम #2 (MAZE COMICS) – समीक्षा अंदर के चित्रांकन के साथ

प्रेमम भाग 2 में यश मीरा का पीछा करता एक अनजान दुनिया, समय या आयाम में पहुँचता है। लेकिन यश की खोजबीन के बाद भी उसे मीरा का नाम और निशान नहीं मिलता। इस खोजबीन में यश की मुलाकात होती है कुछ नए किरदारों से जिनका नाम है ब्रोंटो और थेरी। जिनसे यश को पता चलता है की इस विचित्र और अनजान दुनिया में एक जुंग छिड़ी हुई है जिसमे कुछ भक्षक, तो कुछ रक्षक की भूमिका निभा रहे हैं। परिस्थितिओं के अनुकूल जा कर यश ब्रोंटो और थेरी की मदद करने का निर्णय लेता है वहीँ बदले में ब्रोंटो और थेरी उसे मीरा से मिलवाने में मदद का आश्वाशन देते है। प्रेमम भाग 2 में इसी विचित्र दुनिया और इस में रहने वाले तरह तरह के जीवो पर ध्यान केंद्रित किया गया है। लेकिन सवाल ये है की क्या यश और मीरा मिल पाए या नहीं। इसका जवाब आपको मिलेगा प्रेमम भाग 2 को पढ़ कर।

प्रेमम भाग 2 - कहानी का सार प्रेमम भाग 2 में यश मीरा का पीछा करता एक अनजान दुनिया, समय या आयाम में पहुँचता है।  लेकिन यश की खोजबीन के बाद भी उसे मीरा का नाम और निशान नहीं मिलता।  इस खोजबीन में यश की मुलाकात होती है कुछ नए किरदारों से जिनका नाम है ब्रोंटो और थेरी। जिनसे यश को पता चलता है की इस विचित्र और अनजान दुनिया में एक जुंग छिड़ी हुई है जिसमे कुछ भक्षक, तो कुछ रक्षक की भूमिका निभा रहे हैं। परिस्थितिओं के अनुकूल जा कर यश ब्रोंटो और थेरी की मदद करने का...
प्रेमम 1 (Maze comics) – समीक्षा और मूल्यांकन अंदर की चित्रांकन के साथ

प्रेमम 1 (Maze comics) – समीक्षा और मूल्यांकन अंदर की चित्रांकन के साथ

प्रेमम का चित्रांकन और संवाद कमज़ोर है लेकिन दोनों ही कहानी के असर पर हावी नहीं होते। रवि एक्स और तरुण कुमार वाही जी की इस कहानी को अवश्य पढ़े। 

कहानी का सार प्रेमम का इंतज़ार कॉमिक प्रेमिओं में काफी लम्बे से किआ जा रहा था और प्रेमम आखिर कार अभी सभी को मिलना शुरू हो गई है।  प्रेमम इतनी ख़ास इस लिए मानी जा रही थी क्यूंकि इसमें हिंदी कॉमिक्स में काफी नाम कमा चुके तरुण कुमार वाही और ललित कुमार सिंह जी ने किआ है।  अक्सर इतने ज्यादा प्रचार के बाद उमीदें इतनी बढ़ जाती है की जिस पर एक औसत कहानी का खरा उभर पाना मुश्किल सा प्रतीत होने लगता है। लेकिन प्रेमम ने हमें निराश नहीं किआ है।  प्रेमम कहानी केवल 22 पन्नो पर दर्शाई गई...