सपेरा – समीक्षा और अंदर का चित्रांकन

सपेरा – समीक्षा और अंदर का चित्रांकन

सपेरा कॉमिक्स की लोकप्रियता का अंदाज़ा इस तरह से लगा सकते है की एक समय पर इसके विज्ञापन दूरदर्शन पर दिखाए जाते थे। इस कॉमिक में नागराज का सामना ऐसे ख़तरनाक विलन से होता है जिसके आगे उसकी सारी शक्तियां भी असफल हो जाती है और शक्तिहीन हो चूका नागराज मौत की कगार पर पहुँच जाता है। ये कॉमिक्स नागराज की उन बेहतरीन कॉमिक्स में से एक है जिसकी आर्ट और स्टोरी उसे बेस्ट कॉमिक्स की लिस्ट में रखने को मजबूर करती है।

"सपेरा" परिचय साल 1999 में प्रकाशित हुई ये कॉमिक्स सिंगल इशू कॉमिक विशेषांक है जो 64 पेजस में बनी है। इसमें "नागराज" का सामना ऐसे ख़तरनाक विलन से होता है जिसके आगे उसकी सारी शक्तियां भी असफल हो जाती है और शक्तिहीन हो चूका नागराज मौत की कगार पर पहुँच जाता है। ये कॉमिक्स नागराज की उन बेहतरीन कॉमिक्स में से एक है जिसकी आर्ट और स्टोरी उसे बेस्ट कॉमिक्स की लिस्ट में रखने को मजबूर करती है। एक ज़माने में इसके विज्ञापन को दूरदर्शन टीवी में भी दिखाया जाता था जो शायद प्रचार का अनोखा तरीका था। इसी विज्ञापन...